Sunday, April 18, 2021

The Displaced Hindus Meet At Jaipur

Must Read

Socialism: The Evilest Stupidity Created By Man

प्रश्न था कि समाजवाद आपसे आपकी स्वतंत्रता के बदले समृद्धि देने की बात कहता है आप स्वतंत्रता देंगे क्या? स्वतंत्रता...

Who Exactly Is That Leftist

Q. Who are the two most important persons in our lives? Most benevolent, our best well wishers? A. Doctor and...

Rise Of A New India Down Under? Not Actually, Just A Broader Based India

Much is being written on the New, Unafraid, Fearless India after the Brisbane test and the series win over...

By Omendra Ratnu

विश्व हिन्दू परिषद व हिन्दू हैरिटेज फ़ाउन्डेशन के तत्वावधान में पाकिस्तान से विस्थापित हिन्दुओं व सिखों के लिए कार्यरत संस्था ‘ निमित्तेकम् ‘ द्वारा  2-3 फ़रवरी को जयपुर में पहला विस्थापित हिन्दू सम्मेलन आयोजित किया गया ।

विश्व हिन्दू परिषद के प्रशान्त हरतालकर , हिन्दू हैरिटेज फ़ाउन्डेशन के किशोर टाँक व निमित्तेकम् के जय आहूजा ने इस पूरे सम्मेलन का बीड़ा उठाया तथा उसे सार्थक निष्कर्ष पर पहुँचाया ।
इस सम्मेलन  के कई उद्देश्यों में से मुख्य था पाक
विस्थापित हिन्दुओं की दुर्दशा को संसार के सामने लाना व उस पर हिन्दू समाज में एक चर्चा की नींव रखना ।
अन्य उद्देश्य :
1) भारतवर्ष में नौ राज्यों में पाक विस्थापित हिन्दुओं के लिए 18 विभिन्न संस्थाएँ कार्य कर रही हैं । उन सबके मध्य विहिप के माध्यम से एक समन्वय स्थापित करना ।
2) पाक विस्थापित हिन्दुओं के विभिन्न विषयों पर सघन मंथन व उनका निराकरण ।
3) केन्द्र व राज्य सरकारों पर पाक विस्थापित हिन्दुओं के विषय पर दबाव बना कर भारत में उनका जीवन सरल बनाना ।
कार्यक्रम का शुभारंभ भाग्यनगर ( हैदराबाद ) से पधारे युवा कर्मयोगी राष्ट्र संत स्वामी परिपूर्णानन्द जी के ओजस्वी संबोधन से हुआ । स्वामी जी ने कहा कि धर्म बचाने के लिए अपना सब कुछ तज कर आने वाले हिन्दू हमारे ही माँ बाप , भाई बहिन व बच्चे हैं । भारत इनकी मातृभूमि है ।
रायपुर , छत्तीसगढ़ से पधारे संत श्री युधिष्ठिर लाल जी ने भी शुभारम्भ में आशीर्वचन  कहे ।
प्रशान्त हरतालकर ने कहा कि बिना संगठन के हिन्दू ऊर्जा छिन्न भिन्न हो रही है , समय की माँग है कि सब हिन्दू संगठन मिल कर काम करें जिससे कि कम समय में अधिक परिणाम प्राप्त हो सकें ।
कार्यक्रम में विधायक श्री ज्ञानदेव आहूजा व जयपुर के मेयर श्री अशोक लाहोटी भी उपस्थित रहे ।
सम्मेलन को मुख्यत: सात सत्रों में बाँटा गया था ।
आधारभूत संरचना , स्वास्थ्य , स्वरोज़गार व स्वावलम्बन , सुरक्षा , संस्कार व संवाभिमान , हिन्दू विस्थापित कोष व शिक्षा पर सत्र रखे गए ।
अंतिम सत्र में केन्द्रीय मंत्री श्री अर्जुन मेघवाल भी रहे तथा अपनी मूल्यवान बातों से सभा का मार्गदर्शन किया ।
सम्मेलन की उपलब्धियाँ व आकाँक्षाएं निम्न भाग में वर्णित हैं ।
1) देश भर से बारह संगठनों के लगभग सौ प्रतिनिधियों ने सक्रिय भाग लिया । सब संगठनों ने एक दूसरे से सम्पर्क बनाए रखने व एक दूसरे का संबल बनने का वचन भी दिया ।
2) पाकिस्तान में फँसे हुए हिन्दुओं के लिए वीसा की संख्या बढ़ाने हेतु केन्द्र सरकार से विनती की गई ।
3) आधारभूत संरचना के लिए जोधपुर में एक पाक विस्थापित धर्मशाला बनाने का निर्णय लिया गया जिसके लिए आवश्यक क़दम उठाने का संकल्प भी लिया गया । क्यूँकि सर्वप्रथम पाक विस्थापित  हिन्दू भारत में जोधपुर ही आते हैं , यह एक अत्यावश्यक पहल होगी ।
4) स्वास्थ्य के लिए हिन्दू स्वास्थ्य हैल्प लाइन का प्रचार व उसके सम्यक बल पर जोर डाला गया । विस्थापित कैम्पों में नियमित कैम्प के लिए भी निर्णय लिए गए ।
5) स्वावलम्बन के विषय पर विहिप द्वारा दी गई सहायता राशि के माध्यम से कई विस्थापित हिन्दू सहोदरों ने अपना व्यवसाय आरम्भ किया है तथा सबने पैसा लौटा भी दिया है ।
इसी प्रकार निमित्तेकम के साथ ‘ रेज़ ऑफ़ सन ‘ नाम से वस्त्रों के निर्माण व व्यापार पर एक योजना आरम्भ की जा रही है ।
पाक विस्थापित हिन्दुओं की पारम्परिक दक्षता को जगजाहिर करने व उसका सम्यक उपयोग कर व्यवसाय बनाने हेतु भी निर्णय लिए गए ।
6) संस्कार व स्वाभिमान के सत्र में माननीय दुर्गादास जी ने मार्ग सुझाया तथा पाक विस्थापित हिन्दुओं के लिए संघ की ततपरता का विश्वास दिलाया । माननीय नरपत सिंह जी ने भी इस विषय पर विचार रखे ।
7) इसके बाद एक बहुत महत्वपूर्ण निर्णय लिया गया जो कि पाक विस्थापित हिन्दुओं के पुनर्वास में एक क्रान्तिकारी कदम हो सकता है ।
हर सार्थक प्रयास धन की निर्बाध उपलब्धता पर निर्भर होता है ।
फिर हर प्रयास के लिए प्रायोजक खोजना भी संभव नहीं , इसीलिए एक सरल योजना की रूपरेखा बनाई गई ।
इस लेख के लेखक द्वारा की गई प्रस्तावना में सौ रुपये प्रति माह विश्व का हर हिन्दू अपने विस्थापित बन्धुओं के लिए अर्पित करे । यदि हम विश्व के सौ करोड़ हिन्दुओं में से एक प्रतिशत तक भी यह संदेश पहुँचा देते हैं तो सौ करोड़ रुपये प्रतिमाह एकत्रित किए जा सकते हैं ।
इसके लिए एक ‘ विस्थापित हिन्दू कोष ‘ बनाने की प्रस्तावना प्रशान्त हरतालकर जी द्वारा की गई । यह कोष एक ट्रस्ट संचालित करेगी तथा यह कोष तीन मुख्य बिन्दुओं के लिए होगा :
क ) विस्थापित हिन्दुओं में दक्षता ( Skill ) का विकास तथा स्वयं के उद्योग लगाने हेतु रृण की व्यव्स्था ।
ख) विस्थापित हिन्दुओं के स्वास्थ्य संबंधी विषयों पर सहायता
ग) विस्थापित हिन्दुओं की शिक्षा संबंधी सहायता ।
इस कोष के लिए प्रशान्त जी के नेतृत्व में शीघ्र ही दिल्ली में एक ट्रस्ट का निर्माण कर क्रियान्वयन किया जाएगा ।
8) शिक्षा के सत्र में केन्द्रीय मंत्री श्री अर्जुन मेघवाल जी ने जोधपुर तथा जयपुर में दो दक्षता विकास ( Skill development ) के कॉलेज खोलने की घोषणा की तथा कई लम्बित विषयों पर पुरज़ोर कार्यवाही का वचन भी दिया ।
इस प्रकार प्रशान्त जी का एकाकी प्रयास एक मेले का रूप लेकर 3 फ़रवरी को साँय समाप्त हुआ ।
बहुत से नए मित्र बने , बहुत वचन दिए गए , बहुत से सुझाव दिए गए , बहुत से विचार साझा हुए तथा यह सम्मेलन पाक विस्थापित हिन्दुओं के लिए एक आशा की किरण बन गया । यह क्रम अब हर वर्ष चलाया जाए , इन्हीं मीठी स्मृतियों के साथ सब बन्धु अपने अपने घरों को लौट गए ।
कार्यक्रम पर विहंगम दृष्टि डालने पर दो बहुत आवश्यक बातों पर पुन: प्रकाश डालना आवश्यक है ।
पहला है जोधपुर में पाक विस्थापित हिन्दुओं के लिए एक नवीन नेतृत्व खड़ा करना । चूँकि जोधपुर में ये विस्थापित सर्वाधिक संख्या में हैं , हमारा सारा प्रयास वहीं इनकी सब विषयों पर सहायता करने का होना चाहिए ।
एक लाख से अधिक पाक विस्थापित हिन्दू यदि भयंकर कष्ट में हैं तो यह हमारे लिए लज्जाजनक बात है ।
दूसरी आवश्यक बात है हिन्दू विस्थापित कोष की स्थापना ।
जिस प्रकार अन्य पंथों में ज़कात व  टाइथ आदि नियमित दान की अनिवार्यता है , हिन्दू धर्म में भी होनी चाहिए । प्रत्येक हिन्दू सौ रुपये प्रतिमाह धर्म के हेतु दान करे तो यह एक युग प्रवर्तक कदम हो सकता है ।
हमारे सद्गुरु व रृषियों ने दान की बात जगह जगह लिखी है , अर्थ को धर्म , काम व मोक्ष के ही समान पुरुषार्थ माना गया है । श्री गुरु गोबिन्द सिंह जी महाराज ने अपने जीवन काल में मुग़लों से युद्ध के लिए ‘ दशवन्द ‘ माँगा था । हर हिन्दू को सेना के लिए अपनी आय का दसवाँ हिस्सा देना होता था ।
यदि हम हिन्दू अपने ही गुरुओं की सीख अपने जीवन में नहीं उतारेंगे तो हमारा नाश निश्चित है । आज भी हम युद्ध की स्थिति में हैं , औद्योगिक स्तर पर धर्मान्तरण , क़ानून की सहायता से धर्म पर चोट , हमारे देवी देवताओं का निरंतर अपमान , यह एक प्रकार से सभ्यता का युद्ध ही तो है ।
हमारे सहोदरों को पाकिस्तान व बांग्लादेश से मात्र इसीलिए विस्थापित किया जा रहा है ना कि वे हिन्दू हैं , यह युद्ध नहीं तो और क्या है ?
तो क्या हम हिन्दू इस युद्ध में सौ रुपये प्रतिमाह के ‘ धर्मान्श ‘ की  आहुति भी नहीं दे सकते !!!
यह सम्मेलन सच में ही सफल माना जाएगा यदि ‘ धर्मान्श ‘ का बीज हिन्दुओं के चित्त पर पड़ जाए ।
पाकिस्तान से विस्थापित हिन्दू हमारे रक्त संबंधी हैं । ये वो वीर्यवान हिन्दू हैं , जो अपना घर , पैसा , संपत्ति , स्मृतियाँ , संबंधी , यहाँ तक की अपनी जन्मभूमि भी छोड़ कर भारत आते हैं … केवल एक कारण से … कि उन्हें धर्मान्तरण नहीं करना पड़े ।
विभाजन के समय पाकिस्तान के २२ % हिन्दू अब मात्र २ % रह गए हैं । लगभग एक करोड़ हिन्दू या तो मार डाले गए , धर्म गंवां बैठे या पलायन कर गए ।
यह मानव इतिहास में एक धर्म का सबसे बड़ा नरसंहार है ।
आज भी पचास लाख हिन्दू जेहाद के दावानल से घिरे हुए किसी प्रकार अपने जीवन व सम्मान को बचाने के संघर्ष में रत हैं ।
इक्कीसवीं शताब्दी में भी यदि हम हिन्दू अपने इन भुलाए हुए बन्धुओं की सुध नहीं लेते तो फिर देर सबेर हमारा मिटना भी निश्चित है ।
भारतीय उपमहाद्वीप में हिन्दुओं का ससम्मान जीवन , पाकिस्तान व बांग्लादेश में हिन्दुओं के सुरक्षित विस्थापन पर सीधे सीधे निर्भर करता है ।
यदि यह ‘ हिन्दू विस्थापित सम्मेलन ‘,  भारत व विश्व भर के हिन्दुओं के मानस पटल पर  इन अभागे हिन्दुओं का दुख अंकित कर पाया , तो यह सम्मेलन पूर्णतया सफल रहा ।
बॉलीवुड व क्रिकेट से चुँधियाई हुई हिन्दू चेतना पर यदि पाकिस्तान  में फँसे हमारे सहोदरों के प्रति करुणा के बीज का आरोपण हुआ तो यह सम्मेलन बहुत कुछ कर गया ।
यदि हमारे जीवन की लघुता व पाकिस्तान में फँसे हिन्दुओं की विशाल हृदयता की हमें एक झलक भी मिली , तो यह सम्मेलन अपने लक्ष्य में सफल हुआ ।
अपने साधारण जीवन की आपाधापी में दौड़ते हुए , अस्तित्व कभी कभी हमें यह अवसर देता है कि हम हाथ बढ़ा कर अपने पीछे छूटे हुए सहोदरों के लिए कुछ कर सकें ।
अपने निरर्थक जीवन में सार्थकता भरने का अवसर किसी भाग्यशाली को ही मिलता है ।
पाक विस्थापित हिन्दुओं की सेवा ऐसा ही एक अवसर है , जो हमारे जीवन को प्रेम व दान के रंगों से भर सकता है ।
जो भाग्यशाली हैं , वे इस अवसर का उपयोग कर अपने इहलोक व परलोक दोनों को सँवार लेंगे ।
हरि ॐ तत्सत
The author is a famous ENT surgeon.-Ed
(To visit the website of Nimittekam, the NGO working for the Displaced Hindus, click here.-Ed)
- Advertisement -
- Advertisement -

Latest News

Socialism: The Evilest Stupidity Created By Man

प्रश्न था कि समाजवाद आपसे आपकी स्वतंत्रता के बदले समृद्धि देने की बात कहता है आप स्वतंत्रता देंगे क्या? स्वतंत्रता...
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -